लखनऊ केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता मुंबई महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात जम्मू अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना नाहन नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद पटना मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD बदायूं कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप नई दिल्ली। गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति
EPaper SignIn
लखनऊ - केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता     मुंबई - महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात     जम्मू - अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना     नाहन - नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद     पटना - मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD     बदायूं - कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप     नई दिल्ली। - गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति    

_इतवार का दिन था! इतवार को हमारे साप्ताहिक बाज़ार लगता है।_
  • 151168597 - RAJESH SHIVHARE 0



_इतवार का दिन था! इतवार को हमारे  साप्ताहिक बाज़ार लगता है।_ 

    _सब्जी से लेकर लगभग सभी घरेलू सायहाँमान,बाज़ार में आसानी से मिल जाता है।_

     _आसपास के लोग भी इसी बाज़ार में ख़रीदारी करने आते हैं।_ 

             _मैं भी हर हफ्ते की भाँति सब्जी,दालें और कुछ सामान लेकर आ रहा था।_  

       _आइसक्रीम वाले के पास से गुजरा- तो कदम रूक गये!_

    _*आइसक्रीम* बचपन से ही मेरी कमज़ोरी रही है- और पत्नी व बेटी की भी डिमांड थी!_ 

      _मैंने आइसक्रीम वाले के पास जाकर पूछा- भैया, आइसक्रीम...!?_

          _तो उसने मेरे हाथ में प्राइज लिस्ट थमाकर कहा- देख लीजिए भैया जी ! *कौन सी दूं...?*_

     _मैंने सरसरी नज़रों से प्राइज लिस्ट का मुआयना किया और पाया कि 15 रूपए से 90 रूपए तक की आइसक्रीम है।_

       _मैंने अपनी जेब से 25 रूपए निकालकर अपनी हैसियत के अनुसार आइसक्रीम ख़रीद ली- और आइसक्रीम वाले के पास खड़ा होकर,उससे बातें करता हुआ,आइसक्रीम खाने लगा।_

             _मैंने पूछा - क्यों भाई! यह तुम्हारी अपनी ही आइसक्रीम गाड़ी है.....?_

                  _हाँ बाबू जी! आइसक्रीम वाले ने कहा: अब भला कब तलक दूसरों की मज़दूरी करें और महंगाई का टेम है, *200-250 रूपए में क्या होता है ।*_

    _तीन बच्चे भी हैं,बच्चे पढ़ते भी हैं,किराया भी है, बिजली का बिल वगैरह आदि।_

          _बड़ी मुश्किल है- साहिब!, कैसे जीया ‌जाए, इस महंगाई में:_

                _मैंने भी अपना दुखड़ा रोना शुरू किया - हाँ भाई,सही कह रहे हो- गुजर बसर करनी मुश्किल हो रही हैं!_

          _इस देश से मीडिल क्लास वाले ख़त्म ही हो जायेंगे,या तो एकदम:_

       *_अपर या एकदम लोअर क्लास ही बचेगी!_*

          _अभी मेरी बातचीत आइसक्रीम वाले से हो ही रही थी- कि तभी एक आदमी,औरत,और एक बच्चा (आयु लगभग 5 वर्ष ),आइसक्रीम वाले के पास आकर रुक गए। देखने में दोनों ईंट भट्टा के मज़दूर लग रहे थे- क्योंकि हमारे यहाँ ईंट भट्टा कम्पनियों की भरमार है!_

            _उस आदमी ने सकुचाते हुए,आइसक्रीम वाले से कहा: *तीन ठो, आइसक्रीम तो दीजिए 5-5 वाली।*_

       _आइसक्रीम वाला- कड़क आवाज़ में बोला: हम 5 वाला आइसक्रीम नहीं रखते- 15 वाला है, लीजिएगा!_

         _आइसक्रीम वाले की बात सुनकर तीनों का चेहरा लगभग उतर गया!_

              _बच्चे ने माँ का पल्लू खींचकर - धीरे से *आइसक्रीम* कहा उस आदमी ने फिर साहस करके - अपनी जेब में हाथ डालकर,जेब में पड़ी चिल्लर को हिलाया- और औरत की तरफ़ देखकर कहा: *का हो,खा बानी!* औरत ने सिर हिलाते हुए कहा: *ना,चली बे।*_

   _ऐसा कहकर तीनों वहाँ से चल दिए! मैं वहीं खड़ा होकर यह सब देख रहा था ।_

     ‌ _ना जाने क्यों,मेरा मन मचल रहा था कि मैं उन तीनों को आइसक्रीम दिला दूँ।_

          _किन्तु ‌मेरे पास जो पैसे थे,उनसे कुछ बीबी का बताया हुआ- सामान लेकर जाना था !और अपनी बिटिया के लिए भी आइसक्रीम लेकर जानी थी,सो मैं अपने मन‌ के भाव को वहीं मारकर,खड़ा रहा।_

   _जब तक मैं आइसक्रीम वाले से उनके बारे में कुछ कहता- कि अचानक तीनों वापिस आ गए - और आइसक्रीम वाले से कहा- *दीजिए ! एक ठो आइसक्रीम।*_

           _आदमी ने अपनी जेब से चिल्लर रूपी - *15 रूपए* इकट्ठे करके आइसक्रीम वाले को दे दिये और आइसक्रीम लेकर औरत को थमा दी।_

              _औरत ने सबसे पहले आइसक्रीम बच्चे को खिलाई- और फिर उसके बाद उस आदमी को खाने के लिए दी।_

      _आदमी ने आइसक्रीम लेने में संकोच करते हुए बोला: *ना बानी,तुम खाबो।*_ 

      _लेकिन उस औरत ने जबरदस्ती अपनें हाथों से,उसे आइसक्रीम खिला दी।_

       _एक बार आइसक्रीम खाकर उस आदमी ने, आइसक्रीम औरत के होंठों से ‌लगा दी।_    

        _औरत से ज़रा सी चखकर,बाकी की आइसक्रीम- बच्चे को थमा दी।_ 

          _मै वहीं खड़ा होकर यह दृश्य देख रहा था, तथा कुछ देर पहले आइसक्रीम वाले के साथ मिलकर अभावों का रोना रो‌ रहा था।_

    _*वो तीनों जीवन के हसीन लम्हें - सीमित संसाधनों में खुशी-खुशी जीकर जा रहे‌ थे‌।*_

          _मैं और आइसक्रीम वाला,दोनों एक दूसरे को चुपचाप समझा रहे थे- कि खुशियाँ- ना तो ज़्यादा से बढ़ती हैं- और ना ही कमी से कम होती है।_

            *_बस आपको हर परिस्थिति में उत्सव मनाने ‌का तरीका आना चाहिए।_*

 

चित्र घर का बना आइसक्रीम का है शायद आपको पसंद आये..  Rajesh Shivhare country incharge magazine 151168597


Subscriber

173900

No. of Visitors

FastMail

लखनऊ - केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता     मुंबई - महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात     जम्मू - अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना     नाहन - नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद     पटना - मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD     बदायूं - कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप     नई दिल्ली। - गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति