लखनऊ केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता मुंबई महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात जम्मू अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना नाहन नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद पटना मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD बदायूं कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप नई दिल्ली। गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति
EPaper SignIn
लखनऊ - केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता     मुंबई - महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात     जम्मू - अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना     नाहन - नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद     पटना - मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD     बदायूं - कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप     नई दिल्ली। - गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति    

मंगलायतन विश्वविद्यालय का नौवां दीक्षांत समारोह हुआ संपन्न
  • 151045547 - GAURAV RAWAT 0



यूपी अलीगढ़। मंगलायतन विश्वविद्यालय का नौवां दीक्षांत समारोह मंगलवार को मुख्य सभागार में संपन्न हुआ। दीक्षांत समारोह की मुख्य अतिथि एसोसिएशन ऑफ इंडियन यूनिवर्सिटी की महासचिव डा. श्रीमती पंकज मित्तल रही। वहीं मंविवि के कुलाधिपति, प्रख्यात पत्रकार, शिक्षाविद अच्युतानंद मिश्र, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पांडेय, मंविवि के चेयरमैन हेमंत गोयल और गुरूजी ऋषि राज महाराज भी कार्यक्रम में उपस्थित रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के सामने दीप जलाकर किया गया। इसके बाद छात्राओं ने कुल गीत की प्रस्तुति दी। कुलपति प्रो. पीके दशोरा ने वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की। समारोह में 1405 विद्यार्थियों को डिग्रीयां, नौ को स्वर्ण व 10 को रजत पदक प्रदान किए गए। मुख्य अतिथि भारतीय विश्वविद्यालय संघ की महासचिव श्रीमती पंकज मित्तल ने सभी पदक प्राप्त करने वाले और डिग्री धारकों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आज जॉब चाहिए तो कुछ खास करने की आवश्यकता है।

प्रश्न का उत्तर याद करने व लिखने का समय चला गया। एनईपी 2020 के बाद शिक्षण पद्धति में काफी परिवर्तन आएगा। शिक्षा ग्रहण करने के लिए कोई उम्र नहीं होती। अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडित सिस्टेम से अब आपको पढ़ने के लिए विद्यालय जाने की जरूरत नहीं है। आपको सिर्फ एक कंप्यूटर व इंटरनेट की आवश्यकता है। आप कहीं भी बैठकर ऑनलाइन कोर्स कर सकते हैं। भविष्य में भारतीय विश्वविद्यालय में डिग्री के लिए नहीं कोर्स के लिए दाखिले लेंगे। कोर्स में अर्जित किए गए क्रेडिट के आधार पर आपको डिग्री मिलेगी। अब आधुनिक शिक्षा का उद्देश्य डिग्री के साथ ज्ञान भी अर्जित करना होगा। कई देशों में विद्यार्थी घर पर पढ़कर आते हैं और कक्षा में चर्चा करते हैं। यह यहां भी लागू होना चाहिए। उन्होंने समय के साथ शिक्षण पद्धति में भी बदलाव लाने की सलाह दी। उन्होंने अंत में शेर सुनाते हुए कुछ लोग थे जो वक्त के सांचे में ढल गए, कुछ लोग थे जो वक्त के सांचे बदल गए के साथ अपना वक्तव्य समाप्त किया। गौरव रावत डिस्टिक इंचार्ज अलीगढ 151045547


Subscriber

173900

No. of Visitors

FastMail

लखनऊ - केशव प्रसाद ने सपा को बताया सांपनाथ तो कांग्रेस को नागनाथ, बोले- विपक्ष हमारे मनोबल के आगे नहीं टिक सकता     मुंबई - महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल तेज, Ajit गुट के नेता ने की शरद पवार से मुलाकात     जम्मू - अमरनाथ धाम के लिए श्रद्धालुओं में गजब का उत्साह, 18वें जत्थे में इतने भक्त हुए रवाना     नाहन - नशे के खिलाफ सिरमौर पुलिस का एक्‍शन, एक परिवार के तीन लोग गिरफ्तार; भारी मात्रा में नशा और नकदी बरामद     पटना - मंत्री जी तो बहुत कुछ बोल गए, अब कैसे डिफेंड करेंगे नीतीश कुमार? फ्रंटफुट पर आई RJD     बदायूं - कमरे में फंदे पर लटके मिले दंपती के शव, बड़ा भाई पत्नी सहित फरार; मायका पक्ष ने लगाया हत्या का आरोप     नई दिल्ली। - गलवान में चीनी सैनिकों से झड़प के बाद निभाई थी अहम भूमिका, अब संभाला विदेश सचिव का जिम्मा; आखिर क्यों खास है विक्रम मिसरी की नियुक्ति