EPaper SignIn

एक ही स्थान पर हो रहे दक्षिण और उत्तर के 90 मंदिरों के दर्शन
  • 151118605 - DIKSHA PANDEY 0



वाराणसी ।  मंदिरों के शहर बनारस में एक ही स्थान पर उत्तर और दक्षिण के 90 मंदिरों के दर्शन हो रहे हैं। इसमें काशी के 29 और तमिलनाडु के 61 मंदिर हैं। प्रदर्शनी में तमिलनाडु के मंदिरों की भव्यता और वास्तु देखते ही बन रही है। इसके साथ ही काशी की दुर्लभ देव प्रतिमाएं श्रद्धा का केंद्र बनी हुई हैं। बीएचयू के एंफीथिएटर के मैदान में चल रहे काशी तमिल संगमम में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र की ओर से मूर्तियों व मंदिरों की प्रदर्शनी सजाई गई है। प्रदर्शनी में तमिलनाडु और काशी दोनों जगहों के प्रसिद्ध मंदिरों का छायाचित्र लगाया गया है। दक्षिण भारत के जो मंदिर हैं वह मूल रूप से द्रविड़ परंपरा के हैं। उधर, काशी-तमिल संगमम में शामिल होने आए दूसरे दल के मेहमानों ने काशी भ्रमण किया। हनुमान घाट पर गंगा स्नान के बाद मंदिरों में दर्शन-पूजन किया। तमिल मेहमान हनुमान घाट पर स्थित सुब्रह्मण्य भारती के घर पहुंचकर उनकी स्मृतियों से भी रूबरू हुए। तमिल पर्यटकों के दल ने बुधवार दोपहर तथागत की प्रथम उपदेश स्थली का भ्रमण किया। पुरातात्विक खंडहर परिसर भ्रमण के दौरान तकिल पर्यटक  बौद्ध दर्शन से रूबरू हुए  तमिल मेहमान हनुमान घाट पर स्थित सुब्रह्मण्य भारती के घर पहुंचकर उनकी स्मृतियों से भी रूबरू हुए। तमिल पर्यटकों के दल ने बुधवार दोपहर तथागत की प्रथम उपदेश स्थली का भ्रमण किया। पुरातात्विक खंडहर परिसर भ्रमण के दौरान तकिल पर्यटक  बौद्ध दर्शन से रूबरू हुए ,कहीं विश्वामित्र के राम, तो कहीं सबरी के राम, कहीं हनुमान के राम तो कहीं अयोध्या की प्रजा के राम... राम की अलग-अलग छवि बुधवार को हस्तकला संकुल में देखने को मिली। मौका था काशी तमिल संगमम के तहत अभ्युदय संस्था की ओर से आयोजित जनमानस के राम विषय पर चित्र प्रदर्शनी का। देशभर के कलाकारों ने अपने रामायण के अलग-अलग किरदारों के लिए उनके राम कैसे थे उसका चित्रण किया। कलाकार कमर आरा ने हनुमान के राम को दिखाया।  काशी तमिल संगमम में बीएचयू और स्कूली छात्रों को तमिल साहित्य के बारे में जानने का मौका मिल रहा है। यहां प्रदर्शनी में वैसे तो तमिलनाडु की कला, संस्कृति, खानपान आदि के स्टॉल लगे ही हैं, पुस्तकों में तमिल साहित्य भी रखा है। इसके अलावा तमिल, अंग्रेजी, हिंदी भाषा पर आधारित कई महत्वपूर्ण पुस्तकें  भी रखी हैं।  काशी तमिल संगमम में शामिल होने के लिए 216 यात्रियों का जत्था बुधवार की देर शाम पीडीडीयू जंक्शन पर पहुंचा।  रेलवे, जिला प्रशासन के अधिकारियों ने तमिलों पर फूल बरसाए और वणक्कम किया। वहीं डमरू बजाकर तमिलों को काशी का एहसास कराया। रेड कारपेट पर चलते हुए तमिलों ने कहा कि ऐसा स्वागत कभी नहीं हुआ था। जब आगाज इतना सुंदर है तो अंजाम का अंदाजा भी मुश्किल है। 


Subscriber

170589

No. of Visitors

FastMail

नई दिल्ली - भारत में 24 घंटों के अंदर आए कोरोना के 279 नए मामले, देश में सक्रिय मामलों की संख्या हुई 4855     नई दिल्ली - वाशिंगटन की सुंदर पारी, टीम इंडिया ने रखा 220 रन का लक्ष्य     दुनिया - पाकिस्तान के क्वेटा में पुलिस की गाड़ी पर बम से हमला, 15 पुलिस अधिकारियों सहित कुल 21 लोग घायल