नई दिल्ली जसप्रीत बुमराह की गेंद पर बोल्ड होने के बाद एरोन फिंच ने बजाई ताली, लोगों ने दी गजब की प्रतिक्रिया नई दिल्ली बढ़ सकती है राष्‍ट्रपति पुतिन की मुश्किलें! रूस-यूक्रेन युद्ध पर आई यूएन की रिपोर्ट में हुए कई हैरतअंगेज खुलासे दुनिया बेलारूस में विपक्ष के नेता ने कहा- देश का भाग्य यूक्रेन के साथ जुड़ा हुआ, रूस के खिलाफ एक होकर लड़ना होगा नई दिल्ली आज से शुरू हुई नामांकन की प्रक्रिया, गहलोत और थरूर के बीच मनीष तिवारी के नाम की भी चर्चा हिमाचल प्रदेश बारिश ने रोकी मोदी की राह, वर्चुअली बोले- अस्थिर सरकारों से देश आगे नहीं बढ़ पाया, अब भरोसा बढ़ा देहरादून Ankita Murder से उत्‍तराखंड में उबाल, चीला बैराज में मिला शव, एसआइटी करेगी मामले की जांच
EPaper SignIn
नई दिल्ली - जसप्रीत बुमराह की गेंद पर बोल्ड होने के बाद एरोन फिंच ने बजाई ताली, लोगों ने दी गजब की प्रतिक्रिया     नई दिल्ली - बढ़ सकती है राष्‍ट्रपति पुतिन की मुश्किलें! रूस-यूक्रेन युद्ध पर आई यूएन की रिपोर्ट में हुए कई हैरतअंगेज खुलासे     दुनिया - बेलारूस में विपक्ष के नेता ने कहा- देश का भाग्य यूक्रेन के साथ जुड़ा हुआ, रूस के खिलाफ एक होकर लड़ना होगा     नई दिल्ली - आज से शुरू हुई नामांकन की प्रक्रिया, गहलोत और थरूर के बीच मनीष तिवारी के नाम की भी चर्चा     हिमाचल प्रदेश - बारिश ने रोकी मोदी की राह, वर्चुअली बोले- अस्थिर सरकारों से देश आगे नहीं बढ़ पाया, अब भरोसा बढ़ा     देहरादून - Ankita Murder से उत्‍तराखंड में उबाल, चीला बैराज में मिला शव, एसआइटी करेगी मामले की जांच    

Haryana: अब अपनी ‘सरदारी’, हरियाणा के गुरुद्वारों का होगा कायाकल्प, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद मिली ताकत
  • 151169694 - RAHUL SINGH 0



सुप्रीम कोर्ट द्वारा हरियाणा में गुरुद्वारों के प्रबंधन के लिए बनाए गए एचएसजीपीसी (हरियाणा सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी) विधेयक-2014 को संवैधानिक करार दिया गया है। कोर्ट ने अपने इस फैसले में अधिनियम की वैधता को बरकरार रखा है, यानी अब हरियाणा में गुरुद्वारों के प्रबंधन कार्य से लेकर अन्य परियोजनाओं को आगे बढ़ाने में हरियाणा के सिखों की ही ‘सरदारी’ रहेगी।

इसके लिए उन्हें अब पंजाब की एसजीपीसी (शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी) की मदद का मोहताज नहीं रहना पड़ेगा। चढ़ावे के रूप में इन गुरुद्वारों से होने वाली आय का पैसा भी पंजाब नहीं जाएगा। इस फंड से हरियाणा में ही लोक सेवा को समर्पित विभिन्न परियोजनाएं शुरू की जाएंगी। 

फैसले को लेकर जहां हरियाणा में एचएसजीपीसी से जुड़े तमाम सिख नेता और सदस्य उत्साहित हैं, वहीं उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दमदार पैरवी के लिए हरियाणा सरकार का आभार व्यक्त करते हुए कमेटी की भावी योजनाओं का खाका खींचना भी शुरू कर दिया है। वर्ष 2014 के मानसून सत्र में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने चड्ढा कमेटी की रिपोर्ट के बाद एचएसजीपीसी विधेयक-2014 का प्रस्ताव विधानसभा में पेश किया था।

इसके बाद हरियाणा में एसजीपीसी से जुड़े सिख नेताओं व सदस्यों ने इसका घोर विरोध किया था। जिलों में धरने, प्रदर्शन, रेल रोको आंदोलन इत्यादि का भी दौर चला। उधर, एचएसजीपीसी (एडहॉक) कमेटी अपना काम करती रही, मगर इस दौरान हरियाणा में अधिकतर गुरुद्वारों व चल रही विभिन्न परियोजनाओं का प्रबंधन पंजाब की एसजीपीसी के ही हाथों में रहा।

वर्ष 2019 में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने इस अधिनियम के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की थी। हरियाणा सरकार ने भी सुप्रीम कोर्ट में इस संदर्भ में मजबूती से पक्ष रखते हुए केस की पैरवी की, जिसके बाद अब यह ऐतिहासिक फैसला आया है।


Subscriber

169747

No. of Visitors

FastMail

नई दिल्ली - जसप्रीत बुमराह की गेंद पर बोल्ड होने के बाद एरोन फिंच ने बजाई ताली, लोगों ने दी गजब की प्रतिक्रिया     नई दिल्ली - बढ़ सकती है राष्‍ट्रपति पुतिन की मुश्किलें! रूस-यूक्रेन युद्ध पर आई यूएन की रिपोर्ट में हुए कई हैरतअंगेज खुलासे     दुनिया - बेलारूस में विपक्ष के नेता ने कहा- देश का भाग्य यूक्रेन के साथ जुड़ा हुआ, रूस के खिलाफ एक होकर लड़ना होगा     नई दिल्ली - आज से शुरू हुई नामांकन की प्रक्रिया, गहलोत और थरूर के बीच मनीष तिवारी के नाम की भी चर्चा     हिमाचल प्रदेश - बारिश ने रोकी मोदी की राह, वर्चुअली बोले- अस्थिर सरकारों से देश आगे नहीं बढ़ पाया, अब भरोसा बढ़ा     देहरादून - Ankita Murder से उत्‍तराखंड में उबाल, चीला बैराज में मिला शव, एसआइटी करेगी मामले की जांच